Breaking News Latest News टिहरी गढ़वाल

बधाई:- टिहरी गढ़वाल के भिलंगना ब्लॉक के बेटे एवं बेटी ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में किया कमाल ।

बढ़िया खबर:-
छोटे से गाँव के बेटे का सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में बड़ा कमाल।

टिहरी जिले के बेलेश्वर गाँव के उनियाल परिवार के लिए शानदार पल।
आयुष उनियाल (अभिनव उनियाल) ने सीबीएसई 10 वीं की बोर्ड परीक्षा में 98.83 प्रतिशत अंक लाकर ना केवल परिवार का नाम रोशन किया है अपितु गाँव का भी नाम रोशन किया है।


आयुष,राजेन्द्र प्रसाद उनियाल के बड़े बेटे है।
वह गुमानिवाला स्थित डीबीएस स्कूल में अध्ययनरत है।
आयुष के पिता पेशे से एक शेफ है जो अभी पुर्तगाल में है उन्होंने वहांं से हमे फ़ोन कर एवं बड़े भावुक होकर अपनी खुसी जाहिर की और कहा कि यह उनके लिए अविष्मरणीय पल है।
माता जसोदा देवी एक कुशल गृहणी है बेटे के इस शानदार प्रदर्शन से वह बहुत खुश है।
वहीं उनके दोनों चाचा हर्षमनी उनियाल और सूर्यमणि उनियाल बेलेश्वर गाँव में रहते है और बेलेश्वर गाँव मे ही शिक्षा के लिए कार्य करते हुए केराराम स्कूल नाम से एक स्कूल चलाते है।
आयुष के माता पिता और बेलेश्वर गाँव में रहने वाले उनके पूरे परिवार वाले इस बात से बहुत खुश है।
चाचा हर्षमनी उनियाल और सूर्यमणि उनियाल ने बताया कि यह उनके लिए सबसे सुनहरा पल है क्योंकि ऐसे परीक्षा परिणाम से ना केवल उनके परिवार का नाम रोशन हुआ है अपितु क्षेत्र के अन्य पढ़ने वाले बच्चों के लिए एक प्रेरणा दायक संदेश होगा।
जिससे यह संदेश गाँव -गाँव मे जाएगा कि 98 और 100 प्रतिशत अंक गाँव की पृष्ठ भूमि वाले छात्र भी कठिन मेहनत के बल पर आसानी से प्राप्त कर सकते है , उनका यह कहना है शिक्षा ही परिवर्तन लाएगा।
उत्तराखंड के गाँव के बच्चे विश्व पटल पर अपनी छाप बनाने में कामयाब हो रहे है।
आयुष बहुत ही शांत किश्म के विद्यार्थी है तथा उनका फुटबॉल से बेहद लगाव है।

वहीं भिलंगना ब्लॉक के सेंदुल (केमरा) गांव की     शिवानी पोखरियाल ने सीबीएसई 10 वीं की बोर्ड परीक्षा में 92.80 प्रतिशत अंक लाकर ना केवल पोखरियाल परिवार का नाम एवं गाँव का भी नाम रोशन किया है।


शिवानी पोखरियाल जम्मू के केंद्रीय विद्यालय नं0-2 जम्मू कैंट में स्थित स्कूल में अध्ययनरत है।
शिवानी के पिता भारतीय सेना में हवलदार के पद पर कार्यरत है । जो कि वर्तमान समय मे जम्मू में तैनात है । वहीं माता उर्मिला देवी एक गृहणी है।
शिवानी के चाचा राम सिंह पोखरियाल गाँव में ही रहते है। शिवानी के चाचा राम सिंह पोखरियाल ने बताया कि यह उनके लिए सबसे सुनहरा पल है क्योंकि ऐसे परीक्षा परिणाम से ना केवल उनके परिवार का नाम रोशन हुआ बल्कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का स्लोगन भी सटीक बैठ रहा है और बालिकाओं को पढ़ाने के लिए समाज में एक संदेश भी जाएगा ।

उत्तराखंड की आवाज” की ओर से दोनो बच्चों को बधाई एवं दोनो की उज्वल भविष्य की कामना करते है ।