उत्तराखण्ड रोडवेज़ से सम्बद्ध “शेर-ए-पंजाब” ढाबा खतौली में हो रही खुल्लम-खुल्ला लूट

2 आलू के परांठों की कीमत 190 रुपये।

ढाबे वाले सरकार के एक टैक्स के अभियान को भी लगा रहे पलीता। ढाबे के बिल में टेक्स चोरी, GST का नहीं बिल में कही पर भी उल्लेख।

दिल्ली से देहरादून आते समय उत्तराखण्ड रोडवेज़ की बस में सफ़र करने पर रात को खतौली में बस रोकी जाती है और सरकारी बस का कंडेक्टर बोलता है बस आधा घंटे रुकेगी जिसको जो खाना हो खा ले, इसके बाद बस कहीं और नहीं रुकेगी।

हर साल इस रुट पर कोई न कोई यात्री लूट का शिकार होने की शिकायत मिलती रहती है, इसी चीज़ को रोकने के लिए शायद परिवहन निगम उत्तरखबद के आलाधिकारियों द्वारा एक आध जगह चिन्हित किये गए हैं जहाँ पर परिवहन निगम की बसें चाय नास्ता के लोए रूकती हैं और इसी बात का फायदा उठाकर जमकर रोजाना लोगों से अनाप शनाप खाने का बिल वसूला जा रहा इसी  तर्ज़ पर 17/09/2017 की रात दिल्ली से देहरादून आते हुवे उत्तराखण्ड रोडवेज़ की बस नंबर 3245 UK07PA कंडक्टर राम बाबू (जैसा की टिकट पर दर्ज है), ड्राइवर अजय (सम्भावित नाम) बस लगभग रात 10:30 बजे खतौली के “शेर-ए-पंजाब” ढाबा पर रोकी गयी। उक्त ढाबे पर 2 आलू परांठा खाने के बाद, 2 आलू के परांठा का बिल रु0 190 दिया गया। जबकि आलू परांठा का बाजार मूल्य रु0 30/-प्रति है। यही नहीं बिल पर 1 थाली रु 190 लिखा था, जबकि बिल पर कहीं पर भी GST का भी कोई जिक्र नहीं था। जब कंडेक्टर व ढाबा संचालक से शिकायत की गयी कि हमने थाली नहीं परांठा खाया है तो वो लोग बतमीजी करने लगे और मजे की बात ये थी की इस सब प्रकरण में उत्तराखण्ड रोडवेज़ का उक्त बस कंडक्टर भी ढाबा संचालक की भाषा बोलने लगा और उल्टा हमे ही समझाने लगा। बमुश्किल झक मार कर दूसरा बिल दिया गया जिसपर थाली की जगह 2 आलू परांठा 190 रु लिखा गया। इस बिल पर भी GST का कहीं भी जिक्र नहीं था। स्पष्ट है की उक्त ढाबा संचालक उत्तराखण्ड रोडवेज़ के यात्री और सरकार दोनों को ही लूट कर ग्राहक की जेब तथा सरकार को GST टेक्स का चुना लगा रहा हैं।

जब इस मामले में शिकायत करता संजय भट्ट देहरादून निवासी द्वारा कंडेक्टर रामबाबू से बहुत देर निवेदन किया गया अंत में काफी झक मारने के बाद कंडक्टर ने शिकायत पुस्तिका दी जिसपर रात को ही चलती बस में शिकायत दर्ज कर दी गयी।

शिकायत में ढाबा संचालक एवं कंडक्टर रामबाबू/ड्राइवर के खिलाफ उचित वैधानिक कार्यवाही तथा शेर ए पंजाब ढाबे से उत्तराखण्ड रोडवेज़ का सम्बन्ध विच्छेद करने की मांग की गयी।

अब संजय सरकार के आला अधिमारियों से उम्मीद लगा रहे हैं की शायद इसपर तुरंत कार्यवाही हो।देखते हैं क्या करते हैं – उत्तराखण्ड रोडवेज़ के महाप्रबंधक, परिवहन मंत्री और माननीय उत्तराखण्ड के बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री जी।

शिकायतकर्ता संजय भट्ट का दावा उनके फेसबुक पेज पर इस शिकायत पर 4 लाख से ज्यादा लाइक और 7500 हज़ार से जयादा लोगों ने इस बात को शेयर किया है। बावजूद इसके अभी तक शाशन प्रशाशन ने कोई कार्यवाही नहीं की है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *