खास खबर:- उत्तरकाशी जिले कि अमानत गड़तांग गली पूरी तरह से हुई तैयार. अब पर्यटक रूबरू होंगे इसके इतिहास से

Breaking News उत्तरकाशी संस्कृति

 

उत्तरकाशी जिले कि अमानत गड़तांग गली पूरी तरह से हुई तैयार. अब पर्यटक रूबरू होंगे इसके इतिहास से.



Subhash badoni /उत्तरकाशी।

करीब 11 हजार फीट की ऊंचाई पर जाड़ गंगा के ऊपर खड़ी चट्टानों पर बनाया गया सीढ़ीनुमा गड़तांग गली को बुधवार को जिला प्रशासन और गंगोत्री नेशनल पार्क ने पर्यटकों के लिए खोल दिया है। प्रशासन की और से कोविड नियमों के तहत गड़तांग गली को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है।

बता दें कि लोक निर्माण विभाग ने इस विश्व विरासत का पुनर्निर्माण 65 लाख की लागत से किया। जो कि करीब 136 मीटर लंबी सीढ़ीनुमा रास्ता है और चौड़ाई करीब 1.8 मीटर है। यह रास्ता भारत-तिब्बत व्यापार का जीता-जागता गवाह है। साथ ही 1962 में भारत-चीन युद्ध के समय सेना ने भी इसी खतरनाक रास्ते का प्रयोग अंतरराष्ट्रीय सीमा तक पहुंचने के लिए किया था। गड़तांग गली के खुलने पर होटल और पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों ने इस पर खुशी व्यक्त की है। डीएम मयूर दीक्षित ने बताया कि गड़तांग गली को कोविद गाइडलाइन और एसओपी के अनुरूप पर्यटकों के लिए खोला गया है।

इसके लिए गंगोत्री नेशनल पार्क को निर्देशित किया गया है कि भैरो घाटी में पंजीकरण करने के बाद ही पर्यटकों को गड़तांग गली जाने दिया जाए। साथ ही एक बार मे मात्र 10 लोग ही गड़तांग गली का दीदार कर सकेंगे। साथ ही गड़तांग गली ट्रेक पर झुंड बनाकर, डांस सहित खाना बनाना प्रतिबंधित होगा। साथ ही सुरक्षा के देखते हुए गड़तांग गली की रेलिंगों से नीचे झाँकाना भी प्रतिबंधित होगा।

होटल एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष शैलेन्द्र मटूड़ा ने गड़तांग गली के खुलने पर खुशी जताते हुए कहा कि यह उत्तरकाशी के साहसिक पर्यटन को एक नया आयाम देगा। वहीं आज होटल एसोसिएशन की जो मेहनत थी, उसका फल मिल चुका है।

बता दें कि 17 वीं शताब्दी में जाडुंग-नेलांग के जाड़ समुदाय के एक सेठ के कहने पर पेशावर के पठानों ने आज की तकनीक को आइना दिखाने वाली तकनीक के साथ जाड़ गंगा के ऊपर खड़ी चट्टानों को काटकर लोहे और लकड़ी का सीढ़ीनुमा पुल तैयार किया था। जिससे गड़तांग गली कहते हैं। इस रास्ते ही भारत और तिब्बत का व्यापार होता था। साथ ही वर्ष 1962 में सेना ने भी इस रास्ते का प्रयोग किया था। उसके बाद इसका रखरखाव न होने के कारण यह जीर्ण-शीर्ण हो गया था। वर्ष 2017 में होटल एसोसिएशन और ट्रेकिंग पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों ने सरकार से इस खोलने की मांग उठाई। उसके बाद इसके पुनर्निर्माण पर कई कार्यवाहियों के बाद अब यह नए स्वरूप में तैयार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *