ब्रेकिंग:- बरसात के समय दिखती सहायक सडको की जमीनी हकीकत,बदहाल सड़क पर टूटे पेड़ और पसरा मलबा दे रहा बड़े हादसे को न्यौता ।

Breaking News उत्तरकाशी

बरसात के समय सहायक सड़को कि दिखती हकीकत

रिपोर्ट :-/subhash badoni /उत्तरकाशी।



जहां और बरसात के सीजन को देखते हुए शासन और प्रशासन की और से सड़क सम्बन्धित विभागों को अलर्ट पर और सड़क मार्गों को दुरस्त रखने ने निर्देश दिए गए हैं।

तो वहीं दूसरी और लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खण्ड की लापरवाही और अनदेखी के चलते करीब 18 किमी लम्बी ज्ञानशू-साल्ड-उपरिकोट मोटर मार्ग पर बारिश के कारण टूटे पेड़ और पसरा मलबा हादसों को न्यौता दे रहे हैं।

स्थानीय जनप्रतिनिधियों के कहना है कि 2 माह से यह हाल है। लेकिन विभाग की और सड़कों पर गिरे मलबे को हटाने की जहमत नहीं उठाई गई है।

बल्कि खानापूर्ति कर इतिश्री कर दी गई है।

क्षेत्र पंचायत सदस्य तनुजा नेगी ने बताया कि दो माह से लगातार हो रही बारिश के कारण 18 किमी लम्बी ज्ञानशू-साल्ड-ऊपरीकोट मोटर मार्ग पर कई स्थानों पर मलबा आया हुआ है।

इसके साथ ही कई जगह पर पेड़ टूटकर सड़क पर आ गए हैं। यह सड़क पर करीब 12 से 15 गांवों को जिला मुख्यालय को जोड़ती है।

जहां पर प्रतिदिन कई वाहन आवाजाही करते हैं। जिस पर पहले से बदहाल सड़क पर टूटे पेड़ और पसरा मलबा कभी भी किसी बड़े हादसे को न्यौता दे रहा है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि बीच में विभाग ने खानापूर्ति कर थोड़ा-थोड़ा मलबा हटाया।

लेकिन उसके बाद भी आधे से अधिक सड़क पर मलबा पसरा है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इस सम्बन्ध में विभाग के सहायक अभियंता को भी अवगत करवाया गया कि बदहाल सड़क की स्थिति सुधारी जाए और साथ ही हादसों को न्यौता दे रहे मलबे को हटाया जाए लेकिन उसके बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

तो शायद अब विभाग की नींद तब टुटेगी, जब बदहाल सड़क पर कोई दुर्घटना किसी की जान ही ले लेगा।

सवाल यह है कि आखिर  कैसे जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग कुम्भकरणीय नींद में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *