उत्तराखंड में इन चार जगहों पर मतदान का बहिष्कार, जानिए क्या रही वजह

Breaking News कुमाऊं चंपावत पिथौरागढ़


काशीपुर के ग्राम मानपुर चम्पावत के झालाकुड़ी ग्राम पंचायत के दो तोक धारचूला में बरम तथा गंगोलीहाट के हीपा तोक के ग्रामीणों ने इस बार मतदान का बहिष्कार किया। हीपा बूथ में 456 वोटरों में से केवल छह ने वोट डाले। शेष तीनों जगहों पर पूर्ण बहिष्कार रहा
उत्तराखंड के कुमाऊं में यूं तो सुबह से ही लोकतंत्र के महापर्व में लोगों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। पर कुछ जगहों पर लोगों ने चुनाव का बहिष्कार किया। दरअसल, काशीपुर के ग्राम मानपुर, चम्पावत के झालाकुड़ी ग्राम पंचायत के दो तोक, धारचूला में बरम तथा गंगोलीहाट के हीपा तोक के ग्रामीणों ने इस बार मतदान का बहिष्कार किया। हीपा बूथ में 456 वोटरों में से केवल छह ने वोट डाले। शेष तीनों जगहों पर पूर्ण बहिष्कार रहा।
काशीपुर के ग्राम मानपुर में पौड़ी के ग्राम धारा, झिरना और कोठीरो से विस्थापित 284 परिवार रहते हैं। 28 साल भूमि का मालिकाना हक नहीं मिलने पर विस्थापित परिवारों ने सितंबर 2021 में ही चुनाव बहिष्कार करने का निर्णय लिया था। सोमवार को यहां के करीब 750 वोटरों ने अपने मत का प्रयोग नहीं किया। सितंबर से ही ग्रामीणों ने घर की दीवारों पर चुनाव बहिष्कार के पोस्टर और काले झंडे लगा लिए थे। गांव के दिलीप ङ्क्षसह रावत व हरपाल ङ्क्षसह ने कहा कि तीन महीने बाद विस्थापित परिवार दोबारा अपने गांव जाएंगे और वहां अपनी जमीन पर कब्जा करेंगे। विरोध स्वरूप किसी भी परिवार के सदस्य ने मतदान नहीं किया है। काशीपुर के निर्वाचन अधिकारी अभय प्रताप ङ्क्षसह ने कहा कि विस्थापित परिवारों से बातचीत की गई थी। इन परिवारों में से अधिकांश ने वोट करने की बात कही थी। अब प्रत्येक घर जाकर स्थिति स्पष्ट होगी।
इधर, चम्पावत में सड़क सुविधा से वंचित ग्राम पंचायत झालाकुड़ी के बरम सकार तोक और रायल गांव के पोलप तोक के लोगों ने चुनाव का पूर्ण बहिष्कार किया। यहां एक दिन पूर्व ही मतदान पार्टी भी पहुंच गई थी। दोनों तोकों में 260 मतदाता थे। पीठासीन अधिकारी की सूचना पर आरओ हिमांशु कफल्टिया तथा एआरओ ज्योति धपवाल ने इन तोकों में पहुंचकर मतदाताओं से चुनाव बहिष्कार न करने की अपील की। लेकिन ग्रामीणों ने वोट नहीं डाला। पोलप निवासी अर्जुन सिंह ने बताया कि एसएसबी कैंप से लेकर रायल तक चार किमी लंबी सड़क की मांग कर रहे हैं, लेकिन इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। इस बार कोई प्रत्याशी भी उनसे वोट मांगने नहीं आया।
पिथौरागढ़ जिले के अंतर्गत धारचूला विधानसभा क्षेत्र के कनार गांव के ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया। गांव के युवक मंगल दल अध्यक्ष भरत ङ्क्षसह परिहार ने कहा कि कनार गांव आज भी सड़क से वंचित है। इस गांव के ग्रामीणों को अपने बाजार आने के लिए 16 किमी पैदल चलना पड़ता है। गांव में 400 मतदाता हैं। वहीं मतदान समाप्ति के बाद ग्रामीणों ने बूथ की परिधि के बाहर प्रदर्शन भी किया। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक कनार गांव तक सड़क नहीं बनेगी तब तक मतदान बहिष्कार जारी रहेगा।
गंगोलीहाट विधानसभा क्षेत्र के हीपा बूथ में मतदाताओं ने चुनाव बहिष्कार किया। ग्रामीण लंबे समय से रोड की मांग कर रहे थे। हीपा बूथ पर 456 मतदाता हैं। सायं पांच बजे तक मात्र छह मत पड़े।



Leave a Reply

Your email address will not be published.